Blog Detail

जड़ और जीवन - एक शेफ का सफर - द्वारा - शेफ जीवराज सिंह शेखावत

   कोराना के भयावह रूप को देखकर मैं शेफ जीवराज सिंह अपने परिवार सहित अपने गांव की ओर इस उम्मीद में निकल गया था की दो चार दिन बाद वापस जयपुर आकर हमेशा की तरह अपना काम शुरू कर दूंगा । लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था । 25 मार्च  को सम्पूर्ण लोकडाउन ने मुझे अनिश्चितता के भंवर में धकेल दिया, जहां मुझे निराशा के घोर अन्धकार के सिवा कुछ नजर नहीं आ रहा था।हर दिन पहाड़ों सा और रात समुद्र सी गहरी लगने लगी। परिवार के भरण-पोषण का डर सताने लगा, सभी योजनाएं एक पल में धराशाई हो गई। नकारात्मकता अपने चरम पर पहुंच गई थी। फिर एक दिन किसी काम के कारण मै अपने खेतों की ओर गया। वहां जाकर एक अजीब सी शांति और सुकून का एहसास हुआ। सालों से    सुनाई देनी वाली शहरी आवाजें एकदम से बंद हो गई।  खेतों में काम कर रहे मेरे परिवार जनों को देखकर ऐसा लग रहा था कि मानों यहां कोराना का कोई भय नहीं। खेत आज मुझे जयपुर के WTO से भी ज्यादा भव्य नजर आने लगे। उस शहर जीवन की चकाचौंध में मैंने कभी खेतों को इस नजर से देखा ही नहीं था। ये वही खेत हैं जो पीढ़ियों से मेरे परिवार का भरण-पोषण करते हुए आ रहे हैं। और आज भी मुझसे यही कह रहे थे कि हम हैं ना फिर किस बात की चिंता है। उस दिन एसा लगा की हां अभी भी उम्मीद बाकी है। एक नई ऊर्जा का संचार होने लगा। फिर से जीवन में नई उम्मीद जग उठी थी।
जहां आजकल का बचपन केवल विडियो गेम और मोबाइल स्क्रीन के सामने ही निकल रहा था, कोराना के भय ने हमें मौका दिया है कि हम अपने आने वाली पीढ़ी को अपनी संस्कृति और खेती बाड़ी से भी जोड़े जहां वो जान सकें कि ये हमारी वो जड़ें है जिनसे उन्हें हमेशा जुड़े रहना है।
कोराना के बाद विश्व के नये स्वरूप हमारे सामने होंगे, खान पान के नये तरीके होंगे। अब खाने में स्वाद से ज्यादा उसके बनाने के तरीकों और स्वच्छता पर जोर होगा। और इन सब चीजों में कृषि का भी महत्वपूर्ण योगदान होगा।
Rural tourism अब केवल एक विषय ही नहीं रह गया है आने वाले समय में यह पृयटन को नये आयाम देगा। 
शुद्ध के लिए युद्ध अब किसानों को अपने खेतों में लागू करना होगा अन्यथा समय और भी भयावह स्थिति में पहुंच सकता है। 

Comments

  1. bhanwar singh rathore May 13, 2020 08:03 AM

    Jai jawa, jai kishan, jai vigyan.. Together we will build a healthy and strong India .. jai hind

Leave your comment