Blog Detail

शौक से शेफ तक का सफरनामा

"किंग ऑफ द शेफ  एंड शेफ  ऑफ द किंग" यानी "राजाओं का खानसामा और खानसामाओं का राजा "! यह उपाधि थी  अगस्त एस्कोफिएर ( फ़ादर ऑफ़ मौडर्न गैस्ट्रोनॉमी) की,  जिनका मानना था कि बड़े संकटों से उत्पन्न होते हैं महान संकल्प !
 कोरोना क्राइसिस के इस अवांछित काल में एक कला जो अपने पुरजोर ताकत से उभर कर आई और अनेक राजाओं को खानसामा बना गयी, वह है "कुकिंग स्किल्स"! 
 लॉकडाउन के यह चंद महीने मुगल गार्डन सरीकी रंग बिरंगी तश्तरी, रकेबी और चमचमाती गिलासों की खनखनाहट से जश्न का सा माहौल बना गई, मानो  कोरोना कुकिंग कंपटीशन का सीजन हो!
 सुविख्यात शेफ  गॉर्डोन  रामसे कहते हैं -"एक बेहतरीन शेफ बनने के लिए आपको कई बेहतरीन शेफ के साथ काम करना चाहिए"
 पर सोशल मीडिया मानो इस बात को नकारती हो. हर शेफ कुक  होता है पर हर कुक शेफ  नहीं होता है. शेफ  वह प्रशासनिक व्यक्तित्व है जो पाक कला का अनुभवी पेशेवर होता है। वह इस ओहदे तक पहुंचने  से पहले जिंदगी भर का सफर और तजुर्बा कमाते  है  जो इनकी  पहचान होती है. 

चुनौतीपूर्ण और सूझ बूज की मांग करता एक ऐसा पेशा जो विशिष्ट तकनीक और पाक कला के ज्ञान से सराबोर होता है. एक शेफ  अपनी पाक कला को बेहतर बनाने के लिए हर क्षण प्रयासरत रहता है।
 कुक को यह पांच  प्रमुख गुण एक शेफ बनाता  है -
 1.एक बेहतरीन प्रोफेशनल कुक 
2. एडमिनिस्ट्रेटर जो कि मैन पावर,  फिजिकल असेट्स,  इंफॉर्मेशन और  टाइम को बखूबी मैनेज करता है
3. खाने से संबंधित (ओरिजन और कल्चर) के विषय में जानकारी रखता है 
4.अपनी सेवाओं के प्रति पूरी जिम्मेदारी और सजगता रखते हुए निर्णय लेने की क्षमता रखता हो
5. सेहत, खाना और उसकी कीमत के तालमेल की संपूर्ण साझेदारी द्वारा अपने गेस्ट को संतुष्ट कर पाता  है.

एक असाधारण शेफ की ये कुछ विलक्षण   पहचान है।
 इसके विपरीत हर वह व्यक्ति जो खाना बनाने में सक्षम है वह कुक  कहलाता है. एक असाधारण कुक के भीतर एक अच्छा शेफ बनने की गुंजाइश होती है. यकीनन एक अच्छा व्यंजन बनाने की जो खुशी है वह एक नए तारे  के अविष्कार  से भी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है।
अमेरिकन सेलिब्रिटी शेफ  जूलिया चाइल्ड का मानना है - "वह लोग बेहतरीन होते हैं जो खाने के शौकीन होते हैं" और शौक बड़ी बात है इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता 
तो International Chef Day पे हमारी दुआ है की आप  अपने पाक कला को तारों के पार   ले जाये 
और नमन करते है उन मेहनतकश स्वाद के संग्रक्षकों को जो हमारे लिए संजोते है अपने तमाम खाने के ख़ज़ानों और बुनियादी जिम्मेदारियों  को!

Comments

Leave your comment